नई दिल्ली: आपने महसूस किया होगा कि लंबे समय तक एक जैसे बैठे रहने से हाथ और पैरों में झुनझुनी की समस्या होने लगती है. हालांकि यह किसी बिमारी का संकेत नहीं होता है. लेकिन हाथ और पैर कुछ देर के लिए सुन्न जरूर हो जाते है. ऐसे में आप हाथ-पैर हिला नहीं पाते. लेकिन अगर आपके शरीर के किस्से में अंदरुनी चोट है तो उसकी वजह से भी झनझनाहट पैदा हो सकती है. हमारे शरीर में ज्यादा झुनझुनी आना हमारे स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं माना जाता है. ऐसे में डॉक्टर से परामर्श लेना ही समझदारी होती है.

इन गर्भवती महिलाओं को घर बैठे मिलेगा 5000 रुपया, बस करना होगा यह काम

बता दें कि हाथ-पैरों में झनझनाहट होने की समस्या के विभिन्न विभिन्न बीमारियों  जैसे थायराइड, मधुमेह, स्ट्रोक के कारण भी झनझनाहट उत्पन्न होती है.

इनसे होने वाली झुनझुनी को गंभीरता से लें

1. रात में एक ही करवट पर सोए रहने की वजह से भी कभी-कभी हमारे हाथ-पैर सुन्न हो जाते है. इस दौरान जिस हिस्से पर झुनझुनी हुई है. वहां स्पर्श करने से किसी तरह का एहसास नहीं होता. कभी-कभी तो हाथ-पैर मूवमेंट करने में भी असमर्थ हो जाता है. लेकिन अगर उस जगह थोड़ी मालिश करने से हाथों और पैरों की झुनझुनाहट को दूर किया जा सकता है. हां, अगर मालिश बाद भी समस्या दूर न हो तो यह किसी बिमारी का अंदेशा हो सकता है.

2. खून के संचार की कमी की वजह से हाथ और पैर में झनझनाहट हो सकती है. यदि हमारे शरीर में रक्त संचार ठीक नहीं होता तो हमारी नसों में इसका सीधा असर देखने को मिलता है. दरअसल विभिन्न हिस्सों में ऑक्सीजन ठीक से नहीं पहुंच पाती इसलिए भी सुन्न जैसी अवस्था का सामना करना पड़ता है.

3. यदि आप नसों की समस्या से पीड़ित है तो हमारे हाथ-पैर की अंगुली व जोड़ सुन्न पड़ जाते है, और इसका एहसास कुछ इस तहर होता है कि जैसे किसी ने सुई चुभा दी हो. यह लक्षण कार्पल टनल सिंड्रोम बीमारी के हो सकते हैं. ऐसे में किसी डॉक्टर से इसका इलाज जरूर करवा लें.

इन वजहों से भी होती है झुनझुनाहट

1. लगातार कम्प्यूटर पर टाइपिंग
हाथों में झनझनाहट की वजह लगातार टाइपिंग करने की वजह से भी होती है. लैपटॉप, मोबाइल और कम्प्यूटर में बहुत देर तक टाइप करने की वजह से कलाई की नसों पर बुरा असर पड़ता है. काफी देर तक हाथों को एक ही पॉजिशन में रखे रहने से भी हाथ में झनझनाहट होने लगती है.

Military Diet को फॉलो कर सिर्फ 3 दिन में कम कर सकते हैं कई किलो वजन, जानें कैसे

2. नसों के दब जाने की वजह से
कमर या गर्दन की नस दब जाने से भी पैरों में झनझनाहट होती है. रीढ़ की हड्डी के खराब होने से भी आसपास की नसों पर दबाव बनता है.  ऐसे में सर्वाइकल की समस्या शुरू हो जाती है. जिससे हमारे हाथ पैर सुन्न होने लगते है.

3. शराब की वजह से भी
हाथों और पैरों में झनझनाहट की समस्या उन लोगों को भी हो सकती है, जो शराब का अधिक सेवन करते है. दरअसल शराब के अधिक सेवन की वजह से कोशिकाओं में झनझनाहट होने लगती है. जिससे हाथ व पैर सुन्न हो जाते है.

4. विटामिन की कमी से
विटामिन की कमी की वजह से भी हाथों व पैरों में झनझनाहट होने लगती है. विटामिन बी 12 की कमी की वजह से हाथों में झनझनाहट और सुन्न होने की शिकायत हो सकती है. डॉक्टरों की सलाह से आप विटामिन की दवाईयां ले सकते है.

देखो लाइव टीवी





Source link

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *